FundooZone!!!  

Go Back   FundooZone!!! > Sher-O-Shayari > Sher-O-Shayari

Share This Forum!  
 
 
     

Sher-O-Shayari Post Serious, Romantic, Sensual Shayaries here No Adult Or Vulgar Shayari

 
 
Thread Tools Display Modes
Prev Previous Post   Next Post Next
Old 12th November 2008   #1
mastraam
Fundoo Super Guru
 
mastraam's Avatar
 

Join Date: Jul 2006
Location: Indians ke bheje ke us hisse mein, jahan dinbhar sex sambandhi baatein hoti hain
Posts: 1,997
FZ Credits: 1,011,157
Thanks: 1,547
Thanked 1,229 Times in 347 Posts
FZ Credits: 1,011,157
Mentioned: 8 Post(s)
Tagged: 0 Thread(s)
mastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to all
mastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to allmastraam is a name known to all
बहुत दिनों की बात है...

Jagjit Singh ji ke album "Ecstasies" ki ye nazm humein bahut pasand hai. Dekhiye-

बहुत दिनों की बात है
फ़िज़ा को याद भी नहीं
ये बात आज की नहीं
बहुत दिनों की बात है

शबाब पर बहार थी
फ़िज़ा भी ख़ुश-गवार थी
न जाने क्यूं मचल पड़ा
मैं अपने घर से चल पड़ा
किसी ने मुझ को रोक कर
बड़ी अदा से टोक कर
कहा था लौट आईए
मेरी क़सम न जाईए

पर मुझे ख़बर न थी
माहौल पर नज़र न थी
न जाने क्यूं मचल पड़ा
मैं अपने घर से चल पड़ा
मैं शहर से फिर आ गया
ख़याल था कि पा गया
उसे जो मुझसे दूर थी
मगर मेरी ज़रूर थी

और इक हसीन शाम को
मैं चल पड़ा सलाम को
गली का रंग देख कर
मुझे बड़ी ख़ुशी हुई
मैं कुछ इसी ख़ुशी में था
किसी ने झांक कर कहा
पराए घर से जाईए
मेरी क़सम न आईए

वही हसीन शाम है
बहार जिस का नाम है
चला हूं घर को छोड़ कर
न जाने जाऊंगा किधर
कोई नहीं जो टोक कर
कोई नहीं जो रोक कर
कहे कि लौट आईए
मेरी क़सम न जाईए

मेरी क़सम ना जाईए
-सलाम मछलीशहरी
__________________
हर सख्श अपने वक़्त का सुकरात है यहाँ, पीता नहीं ज़हर का प्याला मगर कोई..!!
mastraam is offline   Reply With Quote
The Following 2 Users Say Thank You to mastraam For This Useful Post:
 

Bookmarks

Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump

Similar Threads
Thread Thread Starter Forum Replies Last Post
एक शराबी की सूक्तियां...Part 2 mastraam Regional Humor 2 13th October 2008 10:43 PM
नई जल योजना की नई बातें funnyfaridabadi Chit Chat 0 15th September 2008 01:14 PM
परछाइयाँ --- by Saahir Ludhianvi funnyfaridabadi Sher-O-Shayari 3 19th January 2007 08:04 PM
Pesh hai ...Bachhan Saab ki Madhushaala. Pintoo Treasure Chest 6 3rd November 2006 10:01 PM


All times are GMT +6.5. The time now is 04:06 AM.


Powered by vBulletin® Version 3.8.0
Copyright ©2000 - 2014, Jelsoft Enterprises Ltd.
Template-Modifications by TMS
vBCommerce I v2.0.0 Gold ©2010, PixelFX Studios
vBCredits v1.4 Copyright ©2007 - 2008, PixelFX Studios